Welcome GUEST: Login Register Free membership call free | verified buyer |Advertise with us | CUSTOMER CARE

All India | Delhi | Kolkata | Noida | Patna | Pune | More... GO BACK

Welcome GUEST: Login Register Free membership call free | verified buyer |Advertise with us | CUSTOMER CARE

All India | Delhi | Kolkata | Noida | Patna | Pune | More... GO BACK
YOUR ARE HERE : > News/Events > प्राधिकरण के बारे…

News/Events


प्राधिकरण के बारे में

Posted on : 12 Sep, 2018

रियल एस्टेट (विनियमन और विकास) अधिनियम, 2016 भारत की संसद का एक अधिनियम है जो घर खरीदारों के हितों की रक्षा करने के लिए और अचल संपत्ति उद्योग में अच्छे निवेश को बढ़ावा देने के लिए बना है। बिल राज्यसभा द्वारा 10 मार्च 2016 को और लोकसभा में 15 मार्च 2016 को पारित कर दिया गया था। 92 में से 69 अधिसूचित वर्गों के साथ 1 मई 2016 से ये अधिनियम अस्तित्व में आया। केंद्र और राज्य सरकारें छह महीने की वैधानिक अवधि के भीतर अधिनियम के अन्तर्गत नियम सूचित करने के लिए उत्तरदायी हैं। इस अधिनियम को बिल्डरों, प्रमोटरों और रियल एस्टेट एजेंटों के खिलाफ शिकायतों में वृद्धि के अनुसार बनाया गया है। इन शिकायतों में मुख्य रूप से खरीदार के लिए घर कब्जे में देरी, समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद भी प्रमोटरों का गैरजिम्मेदाराना  व्यवहार और कई तरह की समस्याएं हैं। RERA एक सरकारी निकाय है जिसका एकमात्र उद्देश्य खरीदारों के हितों की रक्षा के साथ ही प्रमोटरों और रियल एस्टेट एजेंटों के लिए एक पथ रखना है ताकि उन्हें बेहतर सेवाओं के साथ आगे आने का मौका मिले।
 
स्थिति:
 
1. अधिनियम की स्थिति क्या है?
 
रियल एस्टेट विधेयक राज्यसभा द्वारा 10 मार्च, 2016 को पारित किया गया था और 15 मार्च, 2016 को लोकसभा, 25 मार्च, 2016 को राष्ट्रपति द्वारा अनुमोदित और 26 मार्च, 2016 को आधिकारिक राजपत्र में प्रकाशित किया गया था।
 
2. अधिनियम कब लागू किया गया?
 
1 मई, 2016 से धारा 2, धारा 20 से 39, अनुभाग 41 से 58, खंड 71 से 78 और धारा 81 से 92 अनुभागों को केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचित किया गया है।
 
3. इस अधिनियम के कुछ अनुभागों को अभी तक क्यों सूचित नहीं किया गया है?
 
अधिनियम के कुछ खंडों को अभी तक अधिसूचित नहीं किया गया है, जैसा कि संस्थागत ढांचे, अर्थात् विनियामक प्राधिकरण आदि की स्थापना, जो उनके प्रवर्तन से पहले जरूरी है, अभी तक सभी राज्यों में लागू नहीं हुआ है। उदाहरण के लिए परियोजनाओं को केवल प्राधिकरण के साथ पंजीकृत होने के बाद ही बेचा जा सकता है। मध्य प्रदेश में नियम 22 अक्टूबर 2016 को अधिसूचित किए गए थे और 15 दिसंबर 2016 को स्थापित प्राधिकरण।
 
4. अधिनियम के शेष वर्ग कब लागू होंगे?
 
धारा 20 और खंड 43 में यह प्रावधान है कि प्राधिकरण और अपीलीय ट्रिब्यूनल को अधिनियम के प्रारंभ के 1 वर्ष के भीतर स्थापित करने की आवश्यकता है। 1 मई 2016 को शुरू किए गए खंडों को अधिसूचित किया गया था। अभी तक अधिसूचित नहीं किए गए अधिनियम के अनुभागों को 30 अप्रैल 2017 तक नवीनतम सूचित किया जाएगा।
 
 
 
उद्देश्यों और कारण:
 
5. अचल संपत्ति क्षेत्र के लिए एक नियामक कानून की क्या आवश्यकता थी?
 
अचल संपत्ति क्षेत्र हाल के वर्षों में उगा हुआ है लेकिन उपभोक्ता संरक्षण के परिप्रेक्ष्य से बड़े पैमाने पर अनियमित किया गया है। हालांकि उपभोक्ता संरक्षण कानून उपलब्ध हैं, इसमें उपलब्ध आसरा केवल प्रतिरक्षित नहीं है, निवारक नहीं है। व्यावसायिकता और मानकीकरण की अनुपस्थिति के कारण इसने क्षेत्र के समग्र विकास को प्रभावित किया है।
 
6. कौन से वस्तुएं और कारण हैं जिसके लिए अधिनियम तैयार किया गया है?
 
रियल एस्टेट अधिनियम का उद्देश्य निम्नलिखित उद्देश्यों को प्राप्त करना है:
 
क) आवंटियों के प्रति उत्तरदायित्व सुनिश्चित करना और उनके हितों की रक्षा करना;
 
ख) पारदर्शिता को लागू करना, निष्पक्ष खेल सुनिश्चित करना और धोखाधड़ी और देरी को कम करना;
 
सी) व्यावसायिकता और पैन इंडिया मानकीकरण पेश करें;
 
डी) प्रमोटर और आबंटन के बीच सूचना की सममितता स्थापित करना;
 
ई) प्रमोटर और आबंटियों दोनों पर कुछ ज़िम्मेदारियां लगाई गईं;
 
च) अनुबंधों को लागू कर
ने के लिए नियामक निरीक्षण तंत्र की स्थापना;
 
छ) फास्ट-ट्रैक विवाद समाधान तंत्र स्थापित करना;
 

Go Back





Customer Care Number

Office Time: 10:30 AM - 7:30 PM

Advertisement

9835452674


Buy/Sales

7677301010

Real Estate Act (RERA)
MENU

CLOSE (X)

propertyhubworld.com
propertyhubworld.com
Close(X)
Send Your Enquiry

Companies

Copyright ©2014- 2018 Property Hub Management Pvt. Ltd. All rights reserved. Design & Developed by propertyhubworld.com Team